Navratri Healthy Recipes: नवरात्रि व्रत के दौरान हेल्दी और एनर्जेटिक बने रहने के लिए ट्राय करें ये 3 रेसिपीज़

Navratri Healthy Recipes

Navratri का शाब्दिक अर्थ ‘नौ रातें’ है और इसे देवी दुर्गा के सम्मान में मनाया जाता है। इन नौ दिनों के दौरान, भक्तगण मां दुर्गा के विभिन्न रूपों की पूजा करते हैं। नौ अवतारों में शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंद माता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री शामिल हैं। पूजा-पाठ के साथ ही मां दुर्गा को प्रसन्न करने और मनचाहे फल की प्राप्ति के लिए भक्तगण नौ दिनों का उपवास भी रखते हैं।

Navratri Navratri नौ दिनों तक चलने वाला ये व्रत कठिन होता है। कई सारे नियम का पालन करना होता है। नवरात्रि व्रत के दौरान कुट्टू का आटा, सिंघाड़े का आटा, ताजा सब्जियां, दूध, दही और मखाना जैसे हल्की चीज़ों का सेवन करने की सलाह दी जाती है क्योंकि ये आसानी से डाइजेस्ट हो जाते हैं। साथ ही इन्हें खाने से बॉडी में एनर्जी भी बनी रहती है, लेकिन कुछ और भी रेसिपीज़ हैं जिनका आप व्रत के दिनों में सेवन कर सकते हैं।

1. साबूदाना खिचड़ी

साबुदाने की खिचड़ी व्रत में सबसे ज्यादा खाई जाने वाली डिश है। इस खिचड़ी में साबूदाने के अलावा आलू, मूंगफली, हरी मिर्च, टमाटर जैसी चीज़ें भी मिलाई जाती हैं, जो न सिर्फ इसका स्वाद बढ़ाते हैं बल्कि इससे खिचड़ी के पोषक तत्व भी बढ़ जाते हैं। यह एक ग्लूटेन फ्री रेसिपी है। साबूदाना स्टार्च या कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होता है, जो उपवास के दौरान बॉडी को एनर्जेटिक बनाए रखने के लिए बेहतरीन रेसिपी है।

और पढ़ें…  Pradosh Vrat 2023: गुरु प्रदोष व्रत के दिन Shiva मंदिर में रख आएं ये एक चीज, Mahadev प्रसन्न होकर भर देंगे झोली

2. राजगीरा पराठा

राजगीरे का पराठा भी व्रत में इस्तेमाल की जाने वाली पसंदीदा और हेल्दी रेसिपी में से एक है। यह राजगिरा के आटे या चौलाई के आटे से बना एक हेल्दी फ्लैटब्रेड है। इसे बनाने में भी किसी अनहेल्दी चीज़ का इस्तेमाल नहीं होता जिस वजह से व्रत के दौरान न पाचन संबंधी समस्या होती है न ही मोटापा बढ़ने की। पराठे को थोड़ा टेस्टी बनाने के लिए इसमें उबले आलू, हरी मिर्च, जीरा पाउडर, सेंधा नमक, थोड़ी हरी धनिया और अदरक का पेस्ट मिलाएं। इसे आप दही के साथ खाएं।

3. बनाना वॉलनट लस्सी

व्रत में सिर्फ खाने ही नहीं पीने पर भी ध्यान देना चाहिए। बॉडी को हाइड्रेट रखना इस दौरान बेहद जरूरी है इससे कमजोरी, सिरदर्द के साथ कब्ज वगैरह की समस्या भी कोसों दूर रहती है। तो भरपूर मात्रा में पानी पीते रहें इसके साथ ही नारियल पानी, दही, छाछ वगैरह पीते रहें। एक और ड्रिंक जो आप व्रत में पीकर एनर्जेटिक बने रह सकते हैं वो है लस्सी। दही, केला, शहद और अखरोट से बनी यह लस्सी हर तरह से बॉडी के लिए है फायदेमंद।

भारत में नवरात्रि महोत्सव

उत्तर से दक्षिण और पूर्व से पश्चिम तक, यहाँ बताया गया है कि पूरे भारत में नवरात्रि उत्सव कैसे मनाया जाता है:

पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, असम: सबसे लोकप्रिय त्योहार, दुर्गा पूजा (राक्षस महिषासुर पर दुर्गा की जीत का उत्सव) आधिकारिक तौर पर नवरात्रि के 6 वें दिन शुरू होता है और इन क्षेत्रों में पिछले 4 दिनों में पूरे उत्साह के साथ मनाया जाता है। चमचमाते पंडाल, ढाकियों द्वारा धुनुची नाच और स्वादिष्ट भोग इन दिनों के कुछ आम दृश्य हैं। मूर्ति विसर्जन के दिन विवाहित महिलाओं द्वारा शिंदुर खैला का समापन किया जाता है।

और पढ़ें…  Tonsil हो गए हैं? न हों परेशान, तुरंत करें घरेलू इलाज

महाराष्ट्र: नवरात्रि महाराष्ट्रीयन लोगों के लिए ‘नई शुरुआत’ का प्रतीक है। इसलिए, यह वह समय है जब संपत्ति खरीदी जाती है और व्यापारिक सौदे किए जाते हैं। विवाहित महिलाएं ‘सौमंगलम’ नामक एक समारोह में अपनी महिला मित्रों के माथे पर हल्दी और कुमकुम लगाती हैं और उन्हें सुपारी, सुपारी और नारियल भेंट करती हैं।

गुजरात: भक्त मां अम्बे की पूजा करते हैं और इन 9 दिनों तक व्रत रखते हैं। शाम को गरबी (जीवन के स्रोत को दर्शाने वाले दीयों के साथ एक मिट्टी का बर्तन) के साथ एक आरती द्वारा चिह्नित किया जाता है, जिसके बाद पुरुषों और महिलाओं द्वारा डांडिया और गरबा जैसे पारंपरिक नृत्य किए जाते हैं।

पंजाब, उत्तर प्रदेश, बिहार: जागरण के साथ पहले 7 दिन उपवास या हर रात धार्मिक गीत गाते हुए। 8वें या 9वें दिन ‘कंजिका’ नामक एक समारोह में उपवास तोड़ा जाता है, जहां 9 युवा लड़कियों (देवी दुर्गा के 9 रूपों का प्रतिनिधित्व करने वाली) और एक लड़के (भैरव भगवान का प्रतिनिधित्व करने वाले) की पूजा की जाती है। उन्हें उपहार, भोजन – हलवा, चना, पूरी और पैसे देकर सम्मानित किया जाता है।

हिमाचल प्रदेश: यहां, 10वें दिन ‘कुल्लू दशहरा’ के रूप में उत्सव की शुरुआत होती है, जब त्योहार अन्य राज्यों में समाप्त होता है। यह दिन भगवान राम के अयोध्या लौटने का प्रतीक है। नाटी (नृत्य का एक रूप), भोजन और संगीत उत्सव को चिह्नित करते हैं।

कर्नाटक: ‘नादहब्बा’ के रूप में जाना जाता है, कर्नाटक में नवरात्रि आज तक उसी तरह मनाई जाती है जैसे 1610 में विजयनगर राजवंश में मनाई जाती थी। अंतिम दिन को अनुष्ठानों द्वारा चिह्नित किया जाता है जिसमें पूरे राज्य में सड़कों, मेलों और प्रदर्शनियों पर हाथियों का जुलूस शामिल होता है।

Ahead of 1989 (Taylor’s Version) release fans try to decode her cryptic Instagram stories Koffee with Karan Season 8