उत्तर प्रदेश सरकारी योजनाकेंद्र सरकरी योजनासरकारी योजना

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन योजना Widow Pension Scheme

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन योजना Widow Pension Scheme

Widow Pension Scheme इसे ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा लॉन्च किया गया था। भारत सरकार द्वारा समय-समय पर निर्धारित मानदंडों के अनुसार 18 वर्ष या उससे अधिक आयु की और गरीबी रेखा से नीचे की श्रेणी से संबंधित सभी विधवाएं योजना के लाभार्थी होने के लिए पात्र हैं। यह राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम (एनएसएपी) का एक हिस्सा है।

इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन योजना का उद्देश्य

राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम के तहत इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन योजना (IGNWPS) रुपये की पेंशन प्रदान करती है। बीपीएल श्रेणी में विधवा महिलाओं के लिए 300 प्रति माह और 40 वर्ष से अधिक उम्र में। 80 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद, महिला रुपये प्राप्त करने के लिए पात्र है। 500 प्रति माह।

पेंशन का लाभ लेने के लिए योग्यता क्या है

  1. इस योजना का लाभ केवल विधवा महिलाओ को ही प्रदान किया जाएगा।
  2. महिला बीपीएल हो या फिर गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वाली होनी चाहिए।
  3. विधवा महिला की आयु 40-79 वर्ष के बीच होनी चाहिए

पेंशन योजना के तहत कितनी राशि मिलती है

इस पेंशन योजना के तहत महिलाओ को 300 रुपए से लेकर 500 रुपए तक की सहता राशि प्रदान की जाती है जिससे की उन्हे कुछ आर्थिक सहायता मिल सके।

इंदिरा गाँधी विधवा पेंशन योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज़

  1. आधार कार्ड
  2. पति का मृत्यु प्रमाण पत्र
  3. आयु प्रमाण पत्र
  4. मूल निवास प्रमाण पत्र आदि की आवश्यकता होती है।
  5. लाभार्थी की आयु 18 या उससे अधिक होनी चाहिए।

इंदिरा पेंशन योजना के लिए आवेदन कैसे करें

मूल आवेदन पत्र आवेदन पत्र में निवास के मूल स्थान में – ग्राम पंचायत/परियोजना, शहर/शहर की फोटो/स्थानीय क्षेत्र की नगर पंचायत प्रपत्र, आयु प्रमाण, पहचान पत्र बीपीएल। कार्ड के साथ इंटरनेट इंटरनेट सेवा के लिए इंटरनेट प्रदान कर रहे हैं।

आवेदन करें Click Here

भुगतान प्रक्रिया

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन के तहत, राशि का भुगतान लाभार्थियों को प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) प्रक्रिया के माध्यम से किया जाता है। इस प्रक्रिया में लाभार्थी द्वारा उपलब्ध कराए गए खाता संख्या के आधार पर पेंशन की राशि का भुगतान राज्य स्तर से पीएफएमएस के माध्यम से सीधे लाभार्थी के खाते में किया जाता है। जहां तक संभव हो पेंशन भुगतान त्रैमासिक/मासिक रूप से किया जाता है।

पीएफएमएस से भुगतान फ़ाइल के सत्यापन के बाद, इसे निदेशालय स्तर से अधिकृत अधिकारियों द्वारा पीएफएमएस, भुगतान के लिए तैयार यानी भुगतान के लिए स्वीकृत करने के बाद जल्द से जल्द तैयार किया जाता है। राशि की उपलब्धता के आलोक में, निदेशक द्वारा भुगतान के लिए तैयार फ़ाइल पर भुगतान की अनुमति दी जाएगी, जिसके बाद अधिकृत अधिकारियों द्वारा डिजिटल हस्ताक्षर और प्रत्यक्ष भुगतान (डीबीटी) की प्रक्रिया को संपादित करके पेंशन भुगतान की प्रक्रिया की जाती है। ) लाभार्थियों के खाते में किया जाता है।

इन्हे भी पढ़ें

 

Searching karo Telegram

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button